Chaanaky Nitichanakya nitiLatest

चाणक्य के अनमोल विचार – भाग 149

741 : – प्रजाप्रिय राजा लोक-परलोक का सुख प्रकट करता है।
741 : – prajaapriy raaja lok-paralok ka sukh prakat karata hai.

742 : – मनुष्य के चेहरे पर आए भावों को देवता भी छिपाने में अशक्त होते है।
742 : – manushy ke chehare par aae bhaavon ko devata bhee chhipaane mein ashakt hote hai.

743 : – चोर और राजकर्मचारियों से धन की रक्षा करनी चाहिए।
743 : – chor aur raajakarmachaariyon se dhan kee raksha karanee chaahie.

744 : – कीड़ों तथा मलमूत्र का घर यह शरीर पुण्य और पाप को भी जन्म देता है।
744 : – keedon tatha malamootr ka ghar yah shareer puny aur paap ko bhee janm deta hai.

745 : – राजा के दर्शन न देने से प्रजा नष्ट हो जाती है।
745 : – raaja ke darshan na dene se praja nasht ho jaatee hai.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker