Chaanaky Nitichanakya nitiLatest

चाणक्य के अनमोल विचार – भाग 147

731 : – तत्त्वों का ज्ञान ही शास्त्र का प्रयोजन है।
731 : – tattvon ka gyaan hee shaastr ka prayojan hai.

732 : – कर्म करने से ही तत्त्वज्ञान को समझा जा सकता है।
732 : – karm karane se hee tattvagyaan ko samajha ja sakata hai.

733 : – धर्म से भी बड़ा व्यवहार है।
733 : – dharm se bhee bada vyavahaar hai.

734 : – आत्मा व्यवहार की साक्षी है।
734 : – aatma vyavahaar kee saakshee hai.

735 : – आत्मा तो सभी की साक्षी है।
735 : – aatma to sabhee kee saakshee hai.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker